শিক্ষা প্রতিষ্ঠানে কোনও ধর্মের অনুষ্ঠান না করতে দেওয়ার আবেদন

15994510_388694171465124_2389219793110893710_o-copyশিক্ষা প্রতিষ্ঠানগুলিতে কোনও ধর্মের, কোনও রকম ধর্মীয় অনুষ্ঠান যাতে না করতে দেওয়া হয় সে বিষয়ে ভারতীয় বিজ্ঞান ও যুক্তিবাদী সমিতি দীর্ঘদিন ধরে আন্দোলন চালাচ্ছে। এবার এবিষয়ে আন্দোলনে নামল ভারতীয় বিজ্ঞান ও যুক্তিবাদী সমিতি-র ঘাটাল শাখা। গত সোমবার (১৬ জানুয়ারী ২০১৭) এই বিষয়ে পশ্চিম মেদিনীপুর জেলার জেলাশাসক, পুলিশ সুপার এবং প্রাথমিক ও মাধ্যমিক শিক্ষার জেলা পরিদর্শক-এর কাছে স্মারকলিপি দেওয়া হয়েছে সমিত-র পক্ষ থেকে।
ঘাটাল শাখার সম্পাদক দেবব্রত ব্যানার্জীর নেতৃতে পীযূষ শাসমল, প্রসেনজিৎ কোনার সহ বেশ কয়েকজন স্মারকলিপি প্রদান কর্মসূচীতে অংশ নিয়েছিলেন।
স্মারকলিপি-তে জানান হয়েছে, ‘ভারত সংবিধানগত ভাবে একটি ধর্ম নিরপেক্ষ রাষ্ট্র। তাই সরকারী বা সরকারী সাহায্যপ্রাপ্ত শিক্ষা প্রতিষ্ঠানগুলিতে কোনরকম ধর্মীয় অনুষ্ঠান ( সরস্বতী পূজা, নবী দিবস ইত্যাদি) করা বে-আইনি বা অসাংবিধানিক। তাছাড়া মধ্য শিক্ষা পর্ষদ বা উচ্চ শিক্ষা সংসদ কর্তৃক নির্দেশিত নির্দেশিকাতে শিক্ষা প্রতিষ্ঠানগুলিতে যে সমস্ত অনুষ্ঠান করার কথা বলা হয়েছে তাতে সরস্বতী পূজা, নবী দিবস উৎযাপন ইত্যাদি কোনও রূপ ধর্মীয় অনুষ্ঠান করার কোনও উল্লেখ নেই।
তাই ভারতীয় বিজ্ঞান ও যুক্তিবাদী সমিতি-র পক্ষ থেকে জেলাশাসক, পুলিশ সুপার এবং জেলা পরিদর্শকদ্বয়-এর কাছে অনুরোধ, শিক্ষা প্রতিষ্ঠানগুলিতে ধর্মীয় অনুষ্ঠান বন্ধের নির্দেশ দিয়ে, দেশের সংবিধানের মর্যাদা অক্ষুন্ন রাখতে সাহায্য করবেন ও সংবিধানের মৌলিক কর্তব্য (৫১ এ ধারা) অনুযায়ী বিজ্ঞান মনস্কতা প্রসারে এগিয়ে আসবেন।’
সোমবারের স্মারকলিপি দেওয়ার পাশাপাশি ঘাটাল শাখার সদস্যরা এবিষয়ে সামাজিক যোগাযোগ মাধ্যমে বিষয়টি নিয়ে জনমত তৈরীর কাজও করছেন।

If you found this article interesting, please copy the code below to your website.
x 
Share

5 Responses to “শিক্ষা প্রতিষ্ঠানে কোনও ধর্মের অনুষ্ঠান না করতে দেওয়ার আবেদন”

  1. asok kumar das 18 January 2017 at 1:34 AM #

    khub valo udyog. e deshe, arthath amerikar kono public schoole kono dhormyo anusthan hote dekhini. amar meye melbourner school teacher – sekhaneo kono school e e anachar byavichar nei. ekhane abar Christmas chutir jaygay school e winter holiday hoy.

    asokdas charbak
    California January 17, 2017

  2. Santosh Sharma 27 January 2017 at 9:29 PM #

    नया विवाद: ममता सरकार से स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद करने की मांग
    By Mohit Tanwar Publish Date:Tue, 17 Jan 2017 07:44 PM (IST) | Updated Date:Tue, 17 Jan 2017 08:30 PM (IST)

    समिति ने पश्चिम मेदिनीपुर जिले के स्कूलों को प्रेषित ज्ञापन में कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। जेएनएन, कोलकाता। भारतीय विज्ञान और युक्तिवादी समिति ने सरकारी स्कूलों में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सवों के आयोजन को संविधान की मर्यादा के खिलाफ बताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग पश्चिम बंगाल की ममता सरकार से की है। समिति ने पश्चिम मेदिनीपुर जिले के स्कूलों को प्रेषित ज्ञापन में कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। इसलिए सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव का आयोजन असंवैधानिक है।

    युक्तिवादी समिति के अध्यक्ष प्रबीर घोष ने कहा कि देश के संविधान के तहत सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में भी कोई भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जा सकता है। – See more at: http://www.jagran.com/news/national-yuktiwadi-committee-demand-to-mamta-government-sought-to-close-saraswati-puja-in-school-15391754.html#sthash.r6OcC87i.dpuf

  3. Santosh Sharma 28 January 2017 at 8:03 PM #

    KOLKATA : अब बंगाल के सरकारी स्कूलों में सरस्वती पूजा पर रोक लगाने की मांग
    Posted Date : January 17, 20170

    Saraswati-puja

    धर्म निरपेक्ष देश का हवाला दे भारतीय विज्ञान और युक्तिवादी समिति ने सरकारी स्कूलों में सरस्वती पूजाऔर नवमी उत्सवों के आयोजन को संविधान की मर्यादा के खिलाफ बताया

    bhartiya-vigyan-yuktivadi-0कोलकाता/रिपोर्ट4इंडिया। यहां भारतीय विज्ञान और युक्तिवादी समिति ने सरकारी स्कूलों में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सवों के आयोजन को संविधान की मर्यादा के खिलाफ बताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग ममता सरकार से की है। युक्तिवादी समिति ने पश्चिमी मिदनापुर के डीआई प्राइमरी व डीआई सेकेंडरी स्कूल को प्रेषित ज्ञापन में कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। इसलिए सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव उद्यापन का आयोजन असंवैधानिक है।
    साथ ही, युक्तिवादी समिति ने यह भी कहा है कि पश्चिम बंगाल में मध्य शिक्षा पर्षद या उच्च शिक्षा संसद की निर्देशिका में भी स्कूलों में जिन आयोजनों का जिक्र किया गया है, उसमें सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव उद्यापन का उल्लेख नहीं है।
    युक्तिवादी समिति के अध्यक्ष प्रबीर घोष ने कहा कि देश के संविधान के तहत सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में भी कोई भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जा सकता है। ऐसे स्कूलों में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव उद्यापन का आयोजन भी नहीं किया जा सकता है। उन्हेंने दावा किया कि हमारी अपील पर कोलकाता के कई स्कूलों में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव उद्यापन का आयोजन बंद कर दिया गया है।

    Link-http://www.report4india.com/2017/01/17/kolkata-%E0%A4%85%E0%A4%AC-%E0%A4%AC%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%B2-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%B0%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%95%E0%A5%82%E0%A4%B2/

  4. Santosh Sharma 28 January 2017 at 8:18 PM #

    नया विवाद: ममता सरकार से स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद करने की मांग

    By Mohit Tanwar Publish Date:Tue, 17 Jan 2017 07:44 PM (IST) | Updated Date:Tue, 17 Jan 2017 08:30 PM (IST)

    share

    9
    नया विवाद: ममता सरकार से स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद करने की मांगनया विवाद: ममता सरकार से स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद करने की मांग
    समिति ने पश्चिम मेदिनीपुर जिले के स्कूलों को प्रेषित ज्ञापन में कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है।
    जेएनएन, कोलकाता। भारतीय विज्ञान और युक्तिवादी समिति ने सरकारी स्कूलों में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सवों के आयोजन को संविधान की मर्यादा के खिलाफ बताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग पश्चिम बंगाल की ममता सरकार से की है।

    समिति ने पश्चिम मेदिनीपुर जिले के स्कूलों को प्रेषित ज्ञापन में कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। इसलिए सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में सरस्वती पूजा और नवमी उत्सव का आयोजन असंवैधानिक है।

    युक्तिवादी समिति के अध्यक्ष प्रबीर घोष ने कहा कि देश के संविधान के तहत सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त किसी भी स्कूल में भी कोई भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जा सकता है।

    – See more at: http://www.jagran.com/news/national-yuktiwadi-committee-demand-to-mamta-government-sought-to-close-saraswati-puja-in-school-15391754.html#sthash.z1AcKk1Z.dpuf

  5. Madhusudan Mahato 30 January 2017 at 4:41 PM #

    good post


Leave a Reply